Friday, September 9, 2011

रज़ा महबूब की हम जैसे कुछ पागल समझते हैं /आदिल रशीद / aadil rasheed

रज़ा = मर्जी,इच्छा,   पीर =सोमवार 
रज़ा महबूब की हम जैसे कुछ पागल समझते हैं 
अगर वो पीर को मंगल कहे मंगल समझते है

जो  तुझ  से  दूर  हो  वो  जिंदगी  भी  जिंदगी  कब  है  
जो तेरे साथ में गुज़रे उसी को पल समझते हैं 


किसी ने यूँ ही वादा कर लिया था पीर मंगल का 
उसी दिन से हर इक दिन पीर और मंगल समझते हैं

उन्हें  तो हुक्म की तामील हर हालत मे करनी है  
कहाँ कितना बरसना है ये क्या बादल समझते हैं 


ये जनता सब समझती है के उनकी खूबियाँ क्या हैं 
मगर वो हैं के सब को अक्ल से पैदल समझते हैं
  
कहाँ हैं पहले जैसी खासियत के लोग दुनिया मे
जो नकली सांप हैं  कीकर को भी संदल समझते हैं
राजा = मर्जी,इच्छा, पीर =सोमवार  

 

raza mehboob ki ham jaise kuchh pagal samajhte hain
agar wo peer ko mangal kahen mangal samajhte hain

jo tujh se door ho wo zindagi bhi zindagi kab hai
jo tere saath me guzre usi ko pal samajhte hain

kisi ne yun hi wada kar liya tha peer mangal ka
usi din se har ik din peer aur mangal samajhte hain

unhe to hukm ki tameel har halat me karni hai
kahan kitna barasna hai ye kya baadal samjhte hain

ye janta sab samajhti hai ke unki khoobiyan kya hain
magar wo hain ke sab ko aqal se paidal samajhte hain

kahan hain pehle jaisi khasiyat ke log duniya me
jo naklee saanp hain keekar ko bhi sandal samajhte hain

१२ मई 1994




10 comments:

pran sharma said...

UNHEN TO HUKM KEE TAAMEEL
HAR HAALAT MEIN KARNEE HAI
KAHAN KITNA BARASNAA HAI
YE KYA BAADAL SAMAJHTA HAI

BAHUT KHOOB AADIL BHAI !

श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’ said...

वाह आदिल साहब ... वाह
जन्सरोकारों को गज़ल मे समेट्कर मर्म पर हाथ रखना बहुत खूब ... शुभकामनायें

Sandali Sufi said...

Achhi gazal hai...
उन्हें तो हुक्म की तामील हर हालत मे करनी है
कहाँ कितना बरसना है ये क्या बादल समझते हैं
Ye panktiyan achhi ban padi hain... Badhai...

ओमप्रकाश यती said...

magar wo hain ke sabko akl se paidal samajhate hain...Adil bhai,bahut-bahut badhai.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

bahut khoob. sahi farmaya hai...
रज़ा महबूब की हम जैसे कुछ पागल समझते हैं
अगर वो पीर को मंगल कहे मंगल समझते है
daad kubool karen.

उमेश महादोषी said...

उन्हें तो हुक्म की तामील हर हालत मे करनी है
कहाँ कितना बरसना है ये क्या बादल समझते हैं
.....बहुत उम्दा शेर कहा है आपने आदिल साहब!

Aadil Rasheed said...

aap sab ka aabhari hun zeni ji khud ek achchhi ghazal kara hai un ki kavitaon me zindgi hai,yati ji ke to kehne hi kya hai bade bhavuk rachnaayen kehte hain,praan saab yun to u.k me rehte hain magar unke haath ka sparsh sada sar par mehsoos karta hun
aur jin logon ne pehli baar mujhe padha hai aur ashirwad sneh diya unse nivedan hai ke sneh banaye rakhen aap sab meri prerna ho
aadil rasheed
aadil.rasheed1967@gmail.com

Jitendra Dave said...

Very nice & soulful.

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') said...

आदिल साहब, बहुत खूब गजल कही है आपने।

------
क्‍यों डराती है पुलिस ?
घर जाने को सूर्पनखा जी, माँग रहा हूँ भिक्षा।

नदीम अख़्तर said...

वाह, एक और बेहतरीन तराना। मजा आ गया भई, लाजवाब।