Saturday, August 13, 2011

आज रक्षा बंधन है अपनी उन तमाम बहनों के लिए जो मुझ से दूर हैं / आदिल रशीद



एक शेर ........

बड़े नादान हो राखी को तुम राखी ही कहते हो


तुम्हे मालूम है क्या क्या बंधा है इसके धागों में


बताओ तुम हमें क्या खून का रिश्ता ही रिश्ता है


बहुत से ग़ैर बंध जाते हैं इसके कच्चे धागों में


आदिल रशीद


13-08 -2011









bade nadan ho rakhi ko tum rakhi hi kehte ho


tumhe maloom hai kya kya bandha hai iske dhago me 


batao tum hame kya khoon ka rishta hi rishta hai
bahut se gair bandh jate hain iske kachche dhagon me 
aadil rasheed






17 comments:

अरुण चन्द्र रॉय said...

संवेदनशील

girish pankaj said...

waah, bahut khoob....sundar-pyari soch..yahi soch hai iss samay ki maang

Aadil Rasheed said...

dhanyvaad aap mahanubhavon ka aap face book par hain

haidabadi said...

bahut khubsoorat resham jaisa nazak khayal

Chaand

ashok andrey said...

priya bhai Rasheed jee aapne chand shabdon men bahut badi baat keh gae hain.bahut sundar,badhai iske liye meri aur se.

Dr.Bhawna said...

Bahut sundar abhivyakti...hardik shubhkamnayen..

अमिताभ मीत said...

बेहतरीन ! एकदम सही है जनाब ..... इस कच्चे से धागे का-सा मज़बूत रिश्ता और नहीं ..... सब से अजीब .... और सब से प्यारा रिश्ता है ये राखी का !!!

Babli said...

सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण प्रस्तुती!
आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

ashok andrey said...

priya bhai rasheed jee aapne kam shabdon men bahut badi baat keh gae hain,bahut sundar.

prritiy---------sneh said...

bilkul sahi kaha, achha laga aapko padhna.

shubhkamnayen

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!

डॉ.कविता वाचक्नवी Dr.Kavita Vachaknavee said...

सार्थक और संवेदनात्मक !

श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’ said...

बहुत खूब .... स्नेह और सामाजिक उदात्तता की उम्दा अभिव्यक्ति।

Ila said...

सुन्दर अभिव्यक्ति!
सादर
इला

नदीम अख़्तर said...

लाजवाब, उम्दा। बहुत बड़ी बात कही आपने। बहुत अच्छा।

सुधाकल्प said...

Bahut achchha likha hai.dhagon kii mahima......!
Sudha Bhargava
https:www.sudhashilp.blogspot.com/

सुमन'मीत' said...

sundar panktiyan..