Wednesday, May 18, 2011

हम जो हिन्दोस्तान से जाते / ham jo hindostan se jaate /aadil rasheed

हम जो हिन्दोस्तान से जाते 
बच गए नाक कान  से जाते 

बेवफा होना क्या ज़रूरी था 
किस ने रोका था शान से जाते 

आप हम को अगर नहीं मिलते 
हम तो कोरे जहान से जाते 

हाँ में हाँ ने बचा लिया हमको
सच जो कहते तो जान से जाते 










5 comments:

alka sarwat said...

सच ही कहा है आपने

अच्छी भी लगी

मगर इतना सोचता कौन है.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

दुनियादारी की बातें, सच कहा...

हाँ में हाँ ने बचा लिया हमको
सच जो कहते तो जान से जाते

हर शेर बहुत बढ़िया, दाद स्वीकारें आदिल साहब.

निर्झर'नीर said...

आप हम को अगर नहीं मिलते
हम तो कोरे जहान से जाते

हाँ में हाँ ने बचा लिया हमको
सच जो कहते तो जान से जाते

bahut khoob

KAHI UNKAHI said...

बहुत खूब...पढ़ कर आनन्द आ गया...। बधाई...।

प्रियंका

KAHI UNKAHI said...

बहुत खूब...पढ़ कर आनन्द आ गया...। बधाई...।

प्रियंका